राममंदिर ट्रस्ट की पहली बैठक दिल्ली में आज, पूजा अधिकार से लेकर स्वर्ण दान का उठेगा मुद्दा

Image result for ram mandir trust  image

राममंदिर ट्रस्ट की पहली बैठक बुधवार को नई दिल्ली में होगी। इसमें शामिल होने गए अयोध्या के ट्रस्टियों के पास कई मुद्दे हैं। सबसे बड़ी चुनौती निर्मोही अखाड़े से चुने गए प्रतिनिधि ट्रस्टी दिनेंद्र दास के समक्ष है, उन्हें अखाड़े के छह पंचों को ट्रस्ट में प्रतिनिधित्व देने का मुद्दा उठाना है।
साथ ही निर्मोही अखाड़े को पूजा का अधिकार की मांग करनी है, जबकि डीएम समेत अन्य ट्रस्टियों की ओर से रामालय ट्रस्ट की ओर से वाराणसी में राममंदिर के लिए स्वर्णदान लेने पर रोक समेत राममंदिर बनवाने के नाम पर बने अन्य ट्रस्टों की परिसंपत्तियों को फ्रीज करके उपयोग में लेने का मुद्दा भी उठेगा।

निर्मोही अखाड़े के महंत दिनेंद्र दास ने बताया कि अपने छह और सदस्यों को शामिल करने व पूजा-पाठ का अधिकार मांगने के लिए प्रस्ताव रखेंगे। बताया कि बैठक में राममंदिर निर्माण की तिथि पर भी चर्चा होनी तय है।

ट्रस्टी डॉ. अनिल मिश्र व आफियो ट्रस्टी डीएम अनुज कुमार झा ने रामालट ट्रस्ट की ओर से स्वर्ण दान अभियान के खिलाफ मुद्दा उठाने की बात कही है। दोनों ट्रस्टियों का कहना है कि जब अधिकृत ट्रस्ट गठित हो गया है तो इस बाबत पहले से सक्रिय तीन ट्रस्ट रामालय, श्रीरामजन्मभूमि न्यास, श्रीरामजन्मभूमि मंदिर निर्माण न्यास की ओर से चंदा-दान, सहयोग या संपत्तियां भक्तों से लेने का अधिकार नहीं रह जाता। 
Image result for shree ram   image
बुधवार को होने वाली ट्रस्ट की पहली बैठक में क्या होने वाला है? ट्रस्ट का निर्माण कैसे हुआ? कौन-कौन सदस्य हैं? उनकी भूमिका क्या होगी? आइए जानते हैं ऐसे ही सभी सवालों के जवाब।

क्या होगा पहली बैठक में 

  • बैठक में राममंदिर के निर्माण की समयसीमा तय की जा सकती है। 
  • निर्माण के लिए फंड कैसे जुटाया जाएगा, इसे लेकर भी चर्चा होगी। 
  • आम लोगों से निर्माण के लिए फंड कैसे जुटाया जाए, इसे लेकर सदस्य विमर्श करेंगे
  • निर्माण कार्य के दौरान रामलला के लिए सही स्थान के चयन पर भी बातचीत होनी है। 
  • ट्रस्ट के विभिन्न पदों के लिए चुनाव भी इसी बैठक में होना है। 
  • बैठक में नृत्यगोपाल दास व विश्व हिंदू परिषद के उपाध्यक्ष चंपत राय को ट्रस्ट में शामिल किए जाने पर फैसला लिया जा सकता है। 
  • बैठक के बाद ट्रस्ट न्यास बोर्ड के अध्यक्ष और प्रबंध कमेटी का गठन करेगा।
Image result for shree ram   image

कैसे हुआ ट्रस्ट का निर्माण

  • सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल 9 नवंबर को मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट गठित करने के लिए केंद्र सरकार को तीन महीने का समय दिया था। 
  • केंद्र सरकार ने समयसीमा खत्म होने से पहले ही 5 फरवरी को ट्रस्ट का गठन कर दिया। कैबिनेट की बैठक में एक स्वायत्त ट्रस्ट बनाने का प्रस्ताव पारित हुआ। 
  • श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट के गठन के बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद संसद को इसकी जानकारी दी।  
  • उन्होंने कहा कि 67.03 एकड़ भूमि इस ट्रस्ट को दे दी जाएगी और सुप्रीम कोर्ट के निर्देशन में राम मंदिर का निर्माण होगा। 

गठन को लेकर हुआ विवाद 


Image result for ramayan  image
  • ट्रस्ट में सदस्यों के नामों को लेकर भी विवाद हुआ। कई संतों व अखाड़ों ने केंद्र सरकार की सूची पर सवाल उठाए। 
  • दिगंबर अखाड़े के महंत सुरेश दास ने इसे संत समाज का अपमान बताया। 
  • रामजन्मभूमि न्यास के प्रमुख महंत नृत्यगोपाल दास ने भी सूची पर आपत्ति जताई।  
  • राम विलास वेदांती का नाम भी इस सूची से लापता मिला। 

मंदिर ट्रस्ट में कितने सदस्य 

    केंद्र सरकार द्वारा अधिसूचित इस ट्रस्ट का आधिकारिक कार्यालय ग्रेटर कैलाश में बनाया गया है, जो एडवोकेट के परासरन का दफ्तर भी है। श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट में कुल 15 सदस्य हैं, जिनमें 9 स्थायी और 6 नॉमिनेटेड सदस्य हैं। केंद्र सरकार ने अभी 12 सदस्यों के नामों की घोषणा की है। 

    ये हैं मंदिर ट्रस्ट के सदस्य 

    स्थायी सदस्य 
    • के परासरन : सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील के. परासरन ट्रस्ट के अध्यक्ष होंगे। उन्होंने रामलला विराजमान की ओर से अयोध्या मामले में लंबे समय तक पैरवी की। 
    • डॉ. अनिल कुमार मिश्र : पेशे से होम्योपैथी डॉक्टर अनिल राम मंदिर आंदोलन के दौरान विनय कटियार के साथ जुड़े थे। 
    • विमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र : अयोध्या राज परिवार के वंशज व समाजसेवी। 
    • कामेश्वर चौपाल : 1989 के राम मंदिर आंदोलन के समय हुए शिलान्यास में अनुसूचित जाति के कामेश्वर ने ही राम मंदिर की पहली ईंट रखी थी। 
    • महंत दिनेंद्र दास : राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद में पक्षकार और निर्मोही अखाड़ा की अयोध्या बैठक के प्रमुख। 
    • जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती जी महाराज : इनके शंकराचार्य बनाए जाने पर विवाद भी हुआ। 
    • जगतगुरु माधवाचार्य स्वामी विश्व प्रसन्नतीर्थ जी महाराज : कर्नाटक के उडुपी स्थित पेजावर मठ के 33वें पीठाधीश्वर। 
    • युगपुरुष परमानंद जी महाराज : अखंड आश्रम हरिद्वार के प्रमुख। 2000 में संयुक्त राष्ट्र में आध्यात्मिक नेताओं के शिखर सम्मेलन को भी संबोधित किया था।
    • स्वामी गोविंद देव गिरि जी महाराज: आध्यात्मिक गुरु पांडुरंग शास्त्री अठावले के शिष्य हैं। 
    ये भी होंगे ट्रस्ट में 

    Image result for ramayan  image
    • बोर्ड ऑफ ट्रस्टी द्वारा नामित दो सदस्य, दोनों हिंदू धर्म से होंगे।
    • केंद्र सरकार द्वारा नामित एक हिंदू धर्म का प्रतिनिधि जो केंद्र के अंतर्गत आईएएस अधिकारी होगा। 
    • राज्य सरकार द्वारा नामित एक हिंदू धर्म का प्रतिनिधि जो यूपी सरकार के अंतर्गत आईएएस अधिकारी होगा। 
    • अयोध्या के जिलाधिकारी ट्रस्टी होंगे। वह हिंदू धर्म को मानने वाले होंगे। अगर किसी कारण से मौजूदा कलेक्टर हिंदू धर्म के नहीं हैं, तो अयोध्या के एडिशनल कलेक्टर (हिंदू धर्म) सदस्य होंगे।

    भूमिका और जिम्मेदारियां 



    • राममंदिर निर्माण की पूरी प्रक्रिया इसी ट्रस्ट की देखरेख में पूरी होगी। 
    • मंदिर निर्माण कब शुरू होना है और कब तक इसका निर्माण पूरा होना है, यह जिम्मेदारी ट्रस्ट की होगी। 
    • मंदिर निर्माण के लिए मिलने वाले दान को पारदर्शी रखना और उसका सही इस्तेमाल भी ट्रस्ट को ही करना होगा। 

    Comments

    Popular posts from this blog

    भारत की इस एकमात्र फ़ूड कंपनी के साथ जुड़कर कीजिए लहसुन पैकिंग का काम वेतन 87000 रूपये महीना

    भारत की इन 4 बड़ी कंपनियों के साथ मिलकर घर बैठे करे BLUE TEA (नीली चाय) ग्रीन कॉफ़ी , और GREEN TEA की पैकिंग का काम हर महीने मिलेगा १ लाख रूपये

    घर बैठे करे पैकिंग का काम कमाए लाखो रूपये महीना , पॉपकॉर्न कंपनी दे रही है मौका